Turkey हो गया बर्बाद। न्यूज़ हिंदी

मुस्लिम देशो के मासिया बबब चले Turkey के बुरे दिन चल रहे है हाल ही में नए साल में Turkey की सालाना महगाई दर पिछले 109 साल में सबसे तेजी से दिसंबर में 36.08% जा पहुंच है लेकिन अब सवाल ये है की आखिर क्यों गरीबी में चली गई Turkey की अर्थ ववथा और क्यों Turkey के president Erdogan अपना ज्ञान दे रहे है दरअसल Turkey के President Erdogan ऐसे बोलते है की जैसे सब कुछ जानते है और इसकी घमंड में चकना चूर Erdogan को लगता है की उनसे ज्यादा ज्ञान किसी के पास नहीं है आलम तो ये है की Turkey के केंद्र Bank की सारी संथाये उन्ही के इसारे पर काम कर रही है और इसका नतीजा है की अब Turkey का हाल इतना बुरा है की Middle Class के लोग भी राशन की दुकानों पर सामन लेने के लिए कतारों में लगे हुए है क्यों की Turkey की Currency LIRA पिछले सालभर में डॉलर के मुकाबले 45% कमजोर हो चुकी है वही महगाई दर 21% के ऊपर जा चुकी है इनका हाल श्रीलंका से बुरा है यानी वह के केन्देरीय बैंक के टारगेट से 4 गुना ज्यादा महगाई है लेकिन एक बार सवाल भी आता है की जब तुर्की की महगाई लगातार बरती जा रही है तो वह के केंद्रीय बैंक ऐसा कर क्या रहा है जो अर्थ ववथा बढ़ती जा रही है तो सबसे पहले आप को बता दे की केंद्रीय बैंक एक काम तो यही करते है की ब्याज दर बढ़ाते है की Inflation पर काबू पा सके। लेकिन टर्की में कुछ और ही हो रहा है पिछले साल सितम्बर से टर्की केंद्रीय बैंक ने ब्याज दारो में 500 बेसिल पॉइंट्स की कमी कट चूक है यानी 5% की कमी की जा चुकी है तो वही दूसरी तरफ Erdogan एक ही काम किये जा रहे है।

इस्लामिक परपरा का झंडा उठाने का इतनी महगाई के बावजूद भी Erdogan ने कहा की इस्लाम में सुत खोरी हराम है लेहाजहा ब्याज दर ऊंची रखने की एक तुक नहीं बदली Erdogan की एक और दिलचस्पी बानी है उनका मानना है की ब्याज दर ज्यादा हो तो महगाई भी ज्यादा हो तो महगाई भी ज्यादा हो जाती है Erdogan ये भी रिकॉर्ड 225.4 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया। Erdogan ने कहा की ये आकड़ा तुर्की के व्यापार घाटे को 7.8% काम करने के बराबर है 2022 के अपने निर्यात लछ्य को सभोधित कर 250 अरब डॉलर कर देगा। Erdogan बड़ी मुस्किलो से घिर गए है अगले साल चुनाव और उससे पहले Covid की मार से कमजोर Economy ऐसे में उन्हें सबसे आसान रास्तो ये ही दिखा है की अपने फेसलो के लिए इस्माल आढ़ ले ली जाए।

 

Leave a Comment