August 9, 2022

newshindi.co.in

hindi news

Mahindra ने क्यों बेचीं 70 साल पुरानी कंपनी। न्यूज़ हिंदी।

दक्षिण कोरिया की कंपनी ssangyong motor को आख़िरदार मिल गया इस कंपनी मलिका हक़ भारतीय Auto company Mahindra and Mahindra के पास था। MM के चैयरमेन आनंद महिंद्रा इस कंपनी के लिए काफी समय से खरीदार ढूढ़ रहे थे लेकिन घाटे में चल रही इस कंपनी कोई दांव लगाने के लिए तैयार नहीं था। दक्षिण कोरिया कंपनी कंपनी के समूह ने ख़रीदा ये दिल 225 मिलियन डॉलर में हुई। महिंद्रा ने 12 साल पहले 2010 में इसका आदिग्रहण किया था महिंद्रा ग्रुप ssangyong motor में लम्बे समय से पैसा लगा रहा था लेकिन सही return नहीं पा रहा था। इसके बाद महिंद्रा ग्रुप ने अप्रैल 2020 में फैसला लिया की अब इस कंपनी में पैसा नहीं लगाया जायेगा।

आनंद महिंद्रा

महिंद्रा ने खरीदार खोजना की शुरुवात की साल 2020 के ख़त्म होने से ही ssangyong motor को 408 करोड़ के कर्ज के चलते बैंक क्राप्ट केस फाइल करने की जरुरत पड़ गई। बाद में कोरोना के महामारी के चलते कंपनी ने ssangyong motor के लिए परिथिति ओर बिगड़ दी। कंपनी की बिक्री 2021 में कंपनी सिर्फ 84,000 unit बेचीं ये एक साल से पहले करीब 2020 में 2% काम था साल 2021 के पहले 9 महीनो में 238 मिलियन वॉन का नुक्सान हुआ। महिंद्रा एंड महिंद्रा ने इस ssangyong motor आदिग्रहण करने बाद SUV ओर इलेक्ट्रिक व्हीक्ल पर फोकस करने की रडनीति बनाई जो सफल नहीं हो पाई। करीब 70 साल पुराणी कंपनी को ssangyong motor business group 1998 में ख़रीदा था।