August 9, 2022

newshindi.co.in

hindi news

भारत और ब्रिटेन मिलकर देंगे चीन को मात। हिंदी न्यूज़।

india: भारत में अंग्रेजो के धरती से चीन को पड्कनी दोनों की तैयारी शुरू कर दी है भारत और ब्रिटेन के बिच FTA यानी free trade agreement को लेकर बात चित शुरू हो गई है, जिससे अब चीन की मुस्किले बढ़ने वाली है भारत के केंद्रीय उतयोग मंत्री पियूष गोयल और उनकी ब्रिटेन की सक्क्च एनी-मेरी के बीच उपचारिक बात चीत हुई, गोयल ने बताया की दोनों देश FTA के जरिये सल्ल 2030 तक अपने विश्रीय व्यापर को बढ़ाकर दोगुना करेंगे दोनों देश साल 2035 तक 28 अरब पाउंड पहुंच सकता है। भारत और बिट्रेन के बीच समझौता का पहला राउंड 17 जनवरी से शुरू होगा।

उसके बाद हर 5 हप्ते बाद होगी बातचीत, केंद्रीय मंत्री गोयल ने बताया की FTA शुरू होने से भारत और ब्रिटेन दोनों को बिज़नेस और ट्रेड में फायदा होगा, इस agreement के जरिये दोनों देश अपने अपने कारोबारी कानून आसान बनाएगी और कस्टम ड्यूटी घटाएगी, दोनों देशो के बीच निवेश को बढ़ावा देने साथ ही माल और सेवा के कारोबारी बनाने के लिए ये agreement हो रहा है।

FTA: FTA के होने से भारत पर ब्रिटेन अलग अलग दौर पर समझोतो हो रहे है और इसके लिए दोनों देशो मंत्रियो की मुलाकात हो रही है, ब्रिटेन सरकार का कहना है की ये समझौता होने के बाद दोनों देशो के बीच FTA लांच करने के लिए औपचारिक बातचीत शुरू हो जाएगी। इस समझोतो से भारत से ब्रिटेन के लिए चमड़ा, टेक्स्ट टाइल, जेवलरी और प्रोसीड कृषि उत्पादों के निर्यात में तेजी आएगी। डायरेक्ट और इंदिरेक्ट पर रोजगार के मौके बड़ेगे दोनों देशो के बीच निवेश को बढ़ावा मिलेगा। FTA से स्कॉच विस्ससी, वित्तीय सेवाओं, रिन्युबले एनर्जी के छेत्र में नए मौके जुड़ेंगे, गोयल ने कहा की हम एक साल में ये समझौता पूरा कर लगे। भारत साल 2050 तक दुनिया की तीसरी अर्थवयवथा बनने के लिए तैयार है जिसमे अमरीका और यूरोपीय संग की तुलना में बड़ी आबादी है ये अनुमान लगाया गया था की भारतीय कंपनी पहले से ही UK में 95000 नौकरी का समर्थन करती है जिसमे TATA UK के सबसे बड़ा भारतीय एम्प्लायर है, इस समझौते से भारतीय सामान ब्रिटेन में सस्ता होगा साथ ही भारतीय निर्धारकों को भी बड़ा फायदा होगा। भारत पहले ही चीन सामन और कंपनियों को बाहर का रास्ता दिखा चूका है जिसकी वजह से चीन को रेवेनुए के तौर पर बड़ा नुक्सान हुआ और अब भारत विदेशी धरती पर चीन को उसी के मोर्चे पर मात देने की तैयारी में लगा हुआ है।